israel-hamas-war-impact-on-indian-companiesisrael-hamas-war-impact-on-indian-companies

इजराइल में है 10 भारतीय कंपनियों का कारोबार

इजराइल-हमास युद्ध में तेजी से बढ़ती तनावपूर्ण स्थिति

इजराइल और हमास के बीच जंग (Israel-Hamas War) में बढ़ती तनावपूर्ण स्थिति ने विश्व की ध्यान में है. हमास के तेज हमलों के कारण इजराइल में तबाही और उथल-पुथल मची हुई है. यह युद्ध न केवल जान और संपत्ति की बलि दे रहा है, बल्कि इसने इंटरनेशनल बिजनेस के क्षेत्र में भी अस्थिरता फैला दी है.

भारतीय कंपनियों का इजराइल संबंध: व्यापार की गहरी जटिलता

भारत और इजराइल के बीच व्यापारिक संबंध गहरे हैं. 500 से अधिक इजराइली कंपनियां भारत में कारोबार कर रही हैं, जबकि कई भारतीय कंपनियां इजराइल में निवेश कर रही हैं. इस संकट के समय में, इन कंपनियों का स्थिति अत्यधिक अस्थिर हो गई है.

महत्वपूर्ण कंपनियां जिनका बिजनेस प्रभावित हो सकता है

  1. अडानी पोर्ट्स (Adani Ports): Gautam Adani के नेतृत्व में चलने वाली अडानी पोर्ट्स, जिसकी हाइफा पोर्ट में 70% हिस्सेदारी है, इस युद्ध के प्रभाव में हैं। उनके शेयरों में गिरावट दर्शाई जा रही है.
  2. सन फार्मास्युटिकल्स (Sun Pharma): फार्मा सेक्टर में, इजराइल में बिजनेस करने वाली सन फार्मा भी संकट की चपेट में है।
  3. आईटी सेक्टर: टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (TCS), इंफोसिस (Infosys), टेक महिंद्रा (Tech Mahindra) और विप्रो (Wipro) जैसी भारतीय आईटी कंपनियां भी इजराइल में बिजनेस कर रही हैं।

बैंकिंग और ज्वैलरी कंपनियां पर भी दबाव

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI), जिसकी इजराइल में मौजूदगी है, भी इस युद्ध के प्रभाव से प्रभावित हो सकती है। इसके साथ ही, इस युद्ध से भारत और इजराइल के बीच रत्न और आभूषण के कारोबार से जुड़ी कंपनियां भी प्रभावित हो सकती हैं।

Adani-Haifa-Port-In-Israel
Adani-Haifa-Port-In-Israel

By Yash