Surya Grahan 2023 Solar eclipseSurya Grahan 2023 Solar eclipse

Surya Grahan 2023: सूर्यग्रहण का समय और दिन

Surya Grahan 2023 की विशेषता

नई दिल्ली, 13 अक्टूबर 2023: सूर्यग्रहण, जिसे हम ‘Surya Grahan’ भी कहते हैं, एक महत्वपूर्ण खगोलीय घटना है जो हमारे जीवन को गहरे प्रभावित कर सकती है। इस साल का दूसरा सूर्यग्रहण 14 अक्टूबर को होने वाला है। यह ग्रहण कन्या राशि और चित्रा नक्षत्र में होगा, जो पश्चिमी अफ्रीका, उत्तरी अमेरिका, दक्षिण अमेरिका, अटलांटिका, और अंटार्कटिका में दिखाई देगा। यह ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा, हालांकि, यह दुनिया के कई हिस्सों में देखा जा सकेगा।

सूर्यग्रहण का महत्व

सूर्यग्रहण एक रहस्यमय और आध्यात्मिक घटना है जिसे लोग धार्मिक दृष्टि से भी महत्व देते हैं। यह घटना ज्योतिष शास्त्र में भी अद्वितीय स्थान रखती है। सूर्यग्रहण के दिन लोग पूजा-पाठ और ध्यान के माध्यम से अपनी आत्मा को पवित्र महसूस करने का प्रयास करते हैं।

सूतक काल के नियम

सूतक काल, जो सूर्यग्रहण के दिन लागू होता है, एक महत्वपूर्ण पहलू है। सूतक काल में कुछ विशेष नियमों का पालन करना लोगों के लिए आवश्यक माना जाता है। यह समय शुरू होता है सूर्यग्रहण के 12 घंटे पहले और समाप्त होता है ग्रहण के बाद के 12 घंटे में। यहाँ सूतक काल में करने के लिए कुछ काम दिए जा रहे हैं:

क्या करें:

  • सूतक काल में भगवान का नाम लें।
  • गायत्री मंत्र का जाप करें।
  • गर्भवती महिलाएं नारियल पानी अपने पास रखें और सूतक काल में घर से बाहर न जाएं।
  • सूतक काल के दौरान आप पानी पी सकते हैं और अपने जरूरी काम कर सकते हैं।

क्या न करें:

  • सूतक काल में भोजन न करें।
  • मांगलिक कार्यों की मनाही करें।
  • सोना, चांदी आदि के आभूषण पहनना वर्जित है।
  • भगवान की पूजा-पाठ न करें।
  • चाकू, कैंची, सुई, ब्लेड जैसी चीजें इस्तेमाल न करें।

By Yash